Home>>Gratitude>>Quotes>>Sadhguru Quotes in Hindi – सदगुरु जग्गी वासुदेव के अनमोल विचार
Sadhguru Quotes in Hindi
Quotes

Sadhguru Quotes in Hindi – सदगुरु जग्गी वासुदेव के अनमोल विचार

ईशा फाऊंडेशन के संस्थापक सदगुरु जग्गी वासुदेव जी के सर्वश्रेष्ठ और उत्तम सुविचार जो आपके आंतरिक बिकास और चेतना को ऊंचा उठाने में सहायक रूप से काम करेगी। सदगुरु जग्गी वासुदेव जी के अनमोल विचार जो आपके ज्ञान,प्रेम, जीवन और सफलता में काम आयेगी। सदगुरु की सर्वश्रेष्ठ विचारों का अनूठा संग्रह आपके जीवन में आशीर्वाद के तरह प्रभाव डालेगी।

सद्गुरु के अनमोल विचार से लाखों लोगों के जीवन में एक नई रोशनी की किरण दिखाई दी है। लाखों लोगों की जीवन रूपांतरित हो चुकी है। उस में सेे मेंं एक हूं।

अगर आप भी मेरी तरह सदगुरु के विचार से बहुत प्रभावित हैं और उनकी हर बातें अपको अच्छी लगती हैं तो यह पोस्ट अपको सच में बहुत पसंद आयेंगे। हमें उम्मीद हैं इन विचारों से आपके जीवन ऊर्जा से भर जाएगा। अपको जीवन में सफल और आगे बड़े में परेती करेगा। जीवन को आनंद और उत्साह के साथ जीने में कारगर साबित होगा।

सदगुरु के अनमोल विचार :

Sadguru quotes in hindi

ज्ञान पर सदगुरु के अनमोल विचार: (Sadhguru ke bichar gyan par)

1. ज्ञान हमारे अपने आंतरिक अनुभव और व्यावहारिक स्तर पर उचित कार्यों का मिश्रण होता है ।

2. आप जो जानते हैं वह बहुत कम है । आप जो नहीं जानते वह एक अंतहीन संभावना है ।

3. जानकारी , ज्ञान और समझ में अंतर है – जानकारी इकट्ठी की जा सकती है , ज्ञान एक अनुभूति है , और समझ आपको अर्जित करनी पड़ती है ।

4. गणित का आविष्कार किसी कक्षा में नहीं हुआ । यह ब्रह्माण्ड की प्रकृति में ही मौजूद ।

5. हर चीज शून्य से आती है और शून्य में वापस चली जाती है । शून्य ही अस्तित्व का आधार है ।

6. जहां आप अभी हैं , उसके बारे में जब आपके अंदर पूरी स्पष्टता आ जाती है , तो अनुभव का अगला स्तर आपके लिए अपने आप खुल जाएगा ।

7. जिस चीज को ज्यादातर लोग भक्ति मानते हैं , वह बस एक धोखा है । वे भगवान से एक सुविधाजनक सौदा करने की कोशिश कर रहे हैं । भक्ति तो विसर्जित व विलीन होने का एक साधन है ।

योग पर सदगुरु के अनमोल विचार:(Yog par sadhguru ke bichar)

1. योग की प्रक्रिया में होने का मतलब है कि आपने अपने जीवन को ‘ फास्ट – फारवर्ड ‘ मोड पर रखा है ।


2. अगर आप सोचते हैं कि कोई इंसान या कोई चीज आपके खिलाफ है , तो आपने अपना ‘ योग ‘ खो दिया है ; आपने अपनी समावेशी प्रकृति को खो दिया है ।


3. साधना का मकसद है : सीमित अनुभव के ढांचों को गिराना और व्यक्ति के अंदर एक सार्वभौमिक संभावना को उतारना ।


4. इस महामारी को फैलाने वाले हम इंसान ही हैं । इंसान के तौर पर अगर हम जागरूक हो जाते हैं और हर किसी के जीवन में योग ले आते हैं , तो महामारी को फैलने से रोकना , पूरी तरह से हमारे हाथ में है ।


5. आपका ध्यान सिर्फ आपके बारे में नहीं है । अगर आप सचमुच ध्यानमग्न हो जाते हैं , तो अनजाने में ही , आपके आस – पास की हर चीज शांतिमय हो जाएगी ।


6. अगर आप अपनी विवशता भरी प्रवृत्तियों से परे जाना चाहते हैं , तो उसका एकमात्र तरीका है खुद को सचेतन बनाना ।

7. ध्यान अपने अस्तित्व की सुंदरता का अनुभव करने का साधन है ।

जीवन पर सदगुरु के अनमोल विचार:(Jiban par sadhguru ke bichar)

1. अगर आप एक जबर्दस्त जीवन जीना चाहते हैं , तो आपको पांच तत्वों के साथ हरदम संपर्क बनाए रखना होगा ।

2. आप अतीत को याद कर सकते हैं । आप वर्तमान को अनुभव कर सकते हैं । पर आप भविष्य का निर्माण कर सकते हैं ।

3. अस्तित्व के स्तर पर , कोई भी चीज़ किसी दूसरी चीज़ के खिलाफ़ नहीं है – हर एक चीज़ बाक़ी की सभी चीज़ों की पूरक है । विरोधाभास सिर्फ मन में होते हैं ।

4. आपका हाथ इसलिए उपयोगी है , क्योंकि यह वहां जाता है जहां आप इसे ले जाना चाहते हैं । इसी तरह से , आपका मन भी तभी उपयोगी होगा अगर वह वहां जाता है जहां आप इसे ले जाना चाहते हैं ।

5. दुनिया में यह एक चीज़ होनी ही चाहिए : जीवन का मजा लेने की सोच से हमें आनंदमय होने की ओर बढ़ना होगा । अगर आप अपनी ही प्रकृति से आनंदमय हैं , तो आप हर चीज का मजा लेंगे ।

6. जीवन कोई दौड़ नहीं , यह एक अद्भुत घटना है ।

7. भाग्य वह चीज है जो आप खुद के लिए रचते हैं । जब आप अपना भाग्य रचने में असफल रहते हैं तब वह नियति बन जाती है ।

8. ख़ुद को वैसा बनाना जैसा आप होना चाहते हैं , मैं इसी को इनर इंजीनियरिंग कहता हूं ।

9. जिस समय में हम जीते हैं , हमारी जीवन – शैली उसी का परिणाम है – जो असली चीज है वो जीवन है ।

10. इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप जीवन में कितनी चीजें जमा करते हैं , जीवन के अंत में सामान ढोकर ले जाने की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं होगी । संचय से जीवन के सच्चे उत्थान की ओर बढ़ने का यही समय है ।

11. जिसे आप सर्वोच्च के रूप में जानते हैं , उसकी तलाश निरंतर जारी रखें । एक दृष्टि को लेकर जीवन जीना , अपने आप में एक उम्दा अनुभव और एक आनंदमय प्रक्रिया होती है ।

12. महासागरों को जीवित और प्रदूषण मुक्त रखें , इसमें मानवता का भविष्य निहित है ।

13. संपूर्ण होने के लिए आपको कुछ करने की जरूरत नहीं है , आपको कुछ सोचने की जरूरत नहीं है , आपको कुछ अनुभव करने की जरूरत नहीं है । जैसे आप हैं , आप एक संपूर्ण जीवन हैं ।

प्रेम पर सदगुरु के अनमोल विचार:(Prem par sadhguru ke bichar)

1. तर्क से परे भी एक जगह है । जब तक आप वहां नहीं पहुंचते , आप न तो प्रेम की मिठास को जान पाएंगे और न ही ईश्वर को ।

2. अपने आस – पास के लोगों में आपने जो सबसे उत्तम गुण देखा है , उनको उनके उस गुण से पहचानें । जब आप लोगों को उनके सबसे खराब गुण से पहचानने के बजाय उनके सबसे उत्तम गुण से पहचानते हैं , तो आप उनका सर्वश्रेष्ठ उजागर करेंगे , उसे पोषित करेंगे और उनसे सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करेंगे ।

3. अगर आपकी मानवता मर गई है , तब आपको बहुत सारी नैतिकता की जरूरत होगी । अगर आपकी मानवता जीवित है और उफान पर है , तो आप स्वाभाविक रूप से वही करेंगे जो आपके लिए और आपके आस – पास के हर किसी के लिए उत्तम होगा ।

4. जब आप खुद को कृपा के योग्य बना लेते हैं , तभी कृपा कुछ ऐसा कर सकती है जो आप खुद से कभी नहीं कर सकते ।

5. एक सच्चा मित्र वह इंसान है , जो आपसे असहमत होने की हिम्मत रखता है और फिर भी आपसे प्रेम करता है ।

6. पर्यावरण को जो हम नुकसान पहुंचाते हैं , वह इस बात का परिणाम है कि हम अपने भीतर कैसे हैं । अगर हमें यह एहसास हो जाए कि अपने भीतरी माहौल को ठीक रखना हमारे ही हाथ में है , तो हम समझ जांएगे कि पर्यावरण के लिए कार्य करना भी हमारे हाथ में है ।

7. आप सिर्फ उन्हीं लोगों से नहीं बंधते , जिन्हें आप पसंद या प्रेम करते हैं । जिनको आप नापसंद करते हैं या जिनसे घृणा करते हैं , उनके साथ आपका बंधन कहीं ज़्यादा गहरा होता है ।

सफ़लता पर सदगुरु के अनमोल विचार:(Safalta par sadhguru ke bichar)

1. आप अपने भीतर छोटी छोटी चीज़ के बारे में इतना संघर्ष पैदा कर लेते है कि कहीं आपसे कुछ गलत न हो जाय । आप यह 100 % नहीं जानते कि आप जो भी कर रहे है वह सही होगा । आपके लिए बस यह महत्वपूर्ण होना चाहिए जो भी आप कुछ कर रहे है वह आपको और आपके आसपास लोगो को खुशिया देगा । उस काम में अपनी पूरी ऊर्जा लगा दीजिये।


2. हर काम ऐसे कीजिए , जैसे वो आपका आखिरी काम हो । रोककर रखने के लिए कुछ नहीं होता , और भविष्य के लिए बचाकर रखने के लिए भी कुछ नहीं होता ।


3. अगर आप वह नहीं करते जो आप नहीं कर सकते , तो कोई बात नहीं । पर अगर आप वह नहीं करते जो आप कर सकते हैं , तो आपका जीवन दुर्भाग्यपूर्ण है ।


4. शांति और खुशी की जड़ें न तो जंगल में हैं और न ही बाजार में , ये तो हमारे अंदर हैं ।


5. अगर आप भरपूर ध्यान देते हैं , तो किसी भी चीज पर महारत हासिल की जा सकती है ।


6. अगर आप कठिन समय से शालीनतापूर्वक गुजर सकते हैं , तब आप देखेंगे कि हर परिस्थिति जिसका आप सामना करते हैं , वह आपके जीवन को उन्नत बनाने का एक अवसर बन जाती है ।


7. मार्ग ही मंजिल है , और मंजिल मार्ग में छिपी होती है , ठीक उसी तरह जैसे सृष्टि में सृष्टिकर्ता छिपा हुआ है ।

Copy link
Powered by Social Snap