Home>>Gratitude>>5 Benefits of Gratitude Hindi – कृतज्ञता के क्या लाभ होते है
Benefits of practicing gratitude
Gratitudeकृतज्ञता

5 Benefits of Gratitude Hindi – कृतज्ञता के क्या लाभ होते है

नमस्ते मेरे मीठे दोस्तों। कैसे है अपलोग, उम्मीद करते हैं आप लोग सब अच्छे होंगे। आज हमारी पोस्ट है कृतज्ञता के क्या लाभ होते हैं, 5 benefits of gratitude in Hindi,

दोस्तों हमारे जीवन का एक मात्र उद्देश्य यही हैं, के कृतज्ञता को कैसे आम कर सके, कैसे हर एक इंसान के जीवन के gratitude के भाव को जागरूक कर सकें।

कृतज्ञता के क्या फायदे होते है – by gratitudeinhindi

आप की मन में यह सवाल आते होंगे, के कृतज्ञता की क्या जरूरत हैं? क्यूं gratitude इतना जरूरी हैं? ऐसे बहुत से लोगों की जीवन ऑलरेडी अच्छा चल रहा होगा। लेकिन ऐसे भी लोग होंगे जिनके जीवन में कुछ समस्याएं होगी जो अपने जीवन से कुछ परेशान होंगे।

दोस्तों जिनका जीवन पहले से ही अच्छा चल रहे हैं उनके लिए भी कृतज्ञता जरूरी है और जिनके जीवन में अभी परेशानी है समस्याएं हैं उनके लिए भी कृतज्ञता बहुत जरूरी है क्यों इसको मैं एक कहानी के माध्यम से समझाता हूं।

अनुराग ऋषि जी के वीडियो में उन्होंने बताया था यह कहानी जो मैं आप लोगों के साथ आज शेयर कर रहा हूं, एक समय की बात है, एक संत हुआ करते थे, जिनकी परमात्मा से डायरेक्ट बात हुआ करती थी, एकदिन उनका एक भक्त आया उनके पास और कहने लगा, सदगुरु आपकी तो परमात्मा से सीधी बात होती हैं, अपकी बार जब आपकी बात हो तो आप परमात्मा से कहना कि वह मुझे बहुत कुछ पहले से दे रखा है और कुछ नहीं चाहिए।

सदगुरु ने कहा के ठीक है, मेरी बात अपकी बार जब होगी तब में बोल दूंगा। कुछ दिनों में संत कही से गुजर रहे थे, तो उनकी नजर एक भिकारी पर गए,तो वो भिकारी सदगुरु के पास आकर कहने लगा।

महात्मा जी आपकी तो परमात्मा से सीधी बात होती है,अपकी बार मेरे लिए भी बात करें, के मेरे पास कुछ नहीं है, बस यह एक छीरा वस्त्र के सिवा। तो संत ने कहा अच्छा ठीक हैं।

संत की जब परमात्मा से बात हुई तब उन्होंने उन दोनों व्यक्ति के बारे में कहा तो परमात्मा ने जवाब दिया पहले वाले के लिए कि अगर वह अपने जीवन में और पाना नहीं चाहता है तो उसे कह दो कि शुक्र करना बंद कर दे।

और उसे दूसरे वाले व्यक्ति के लिए कहा कि उसके जीवन में उसे अगर कुछ चाहिए तो उसे कह दो कि शुक्र करना शुरू कर दें। यह बात जब जब धनी व्यक्ति को सुनने को मिला तो वह कहने लगा कि यह कैसे संभव है यह हो ही नहीं सकता उसने मुझे बहुत कुछ दीया है मैं उनका शुक्र करना कैसे बंद कर सकता हूं। तो संत ने कहा तुम शुक्र जितना करोगे उतना तुम अधिक मिलता जायेगा।

और जब उस भिकारी को यह पता चला के उसे शुक्र करने को कहा गया है, तो उसने कहा के मेरे पास कुछ भी नहीं हैं बस इस एक फटे कपड़े के सिवा, में किस तरह शुक्र करूं।

एक जोड़ का झोका आया, और उसका का वो कपड़ा का टुकड़ा को भी उड़ा ले गया।

क्या समझ में आया दोस्तों, कृतज्ञता उनके लिए भी जरूरी है, जिनके पास सब कुछ हैं, और कृतज्ञता उनके लिए भी जरूरी हैं जिनके अवस्था अभी मुश्किलों से घिरा हैं।

चलिए पोस्ट में, आगे बड़े मेरे मीठे दोस्तों। आज हमलोग जानेंगे के कृतज्ञता के कितने फायदे हैं, हमारे जीवन में।

कृतज्ञता व्यक्त करने के लाभ

Gratitude के भाव से आपके जीवन में कल से सारा problem खत्म होने वाला नहीं हैं, लेकिन अगर आप तेजी से अपने जीवन में changes लाना चाहते हैं तो अपको अपने जीवन उर्जा को बदलना होगा, और इसके लिए आपको कृतज्ञता(gratitude) का भाव को अपनाना जरूरी हैं। पहला फायदे हैं जो में अपलोगो के साथ बताऊंगा मेरे मीठे दोस्तों,

1.कृतज्ञता हमें खुश करती है

जब आप उन चीजों पर ध्यान देना शुरू करते है जो हमारे पास पहले से है और उनके प्रति कृतज्ञ रहते है, तो आपके यह भाव को बाकी नकारात्मक भाव से अलग कर देता हैं। जब आप के अंदर सकारात्मक भाव का विचार आते रहते है, तो जाहिर सी बात है। आप खुदको को अच्छा ही मेहसूस करेंगे।

आप अगर उन बातों को याद करें, के आपके जीवन में क्या क्या अच्छा हुआ है, क्या क्या उपलब्धियां अपने हासिल की है, कितने सारे चीजों पर अपने बढ़िया काम किया है, इन बातों को सोचना और उसके लिए आभारी रहना आपके मन को खुश ही करता हैं। हा ना मेरे मीठे दोस्तों।

और अगर आप जीवन में छोटी छोटी चीजों पर अकृतज्ञ बोध करते है, तो आपके मन में गुस्सा, नाराजगी, नफरत, ईर्षा के सिवा और कुछ हैं, जो आप इक्कठा कर सकें।

यही कारण हैं, कृतज्ञता का अनुभव हमें खुशी से भर देता हैं।

2.आभार हमारे मूड में सुधार करता है

अगर आप का मूड अच्छा नहीं रहता हैं, इसका कारण यही हो सकता हैं जो आप चाहते है वो अपको मिला नहीं है, या फिर मिलते मिलते रह गया हो, या फिर जो आपके पास हैं उससे आप खुश नहीं हैं।

जब आपके जीवन में आभार का भाव जागरूक होता है, के जो भी होता है आपके अच्छे के लिए होता हैं। और जो भी होगा के अच्छा ही होगा

जब यह बात को आप समझ जाते हैं तो अपका मूड खराब जब भी होगा, आपके दिमाग में यह कृतज्ञ वाक्य आह जायेंगे, के जो हुआ अच्छा ही हुआ।

3. कृतज्ञता हर चीज में सुंदरता देखने में मदद करती है

जब आपके जीवन में कृतज्ञता का भाव जागरूक हो जाता है, जब आप एक शुक्रगुजार इंसान बन जाते हैं। तब आपको हर चीज़ में भलाई ही दिखाई देती हैं। आप हर चीज़ पर अच्छी चीजें ही दिखाई देनी शुरू हो जाती है।

तब आप दूसरों में खामियां नहीं, दूसरों में अच्छाई नज़र आना शुरू हो जाता हैं। तब छोटी सी चोट मिलने पर भी मुस्कुराओगे और कहोगे शुक्र है, बड़ी चोट से तो बचें हैं। तब आप किसी की आने पर, यह नहीं कहोगे के खाली हाथ चला आया, आप कहोगे – आप आह गए यही काफी है, यह होता हैं जादू जब कृतज्ञता आपके जीवन में आती हैं।

4. कृतज्ञता हमे धार्य और शांत रखता हैं

जब आपकी जीवन में कृतज्ञता(gratitude) नहीं होती है, तो आप एक अलग किसाम के इंसान होते हो, और जब आपके जीवन में आभार को अपना लेते है, तो आप अलग व्यक्तित्व का अधिकारी बन जाते हैं।

कृतज्ञता हमें धैर्य और शांति बनाए रखने में काफी कारगर साबित होता हैं। एक आकृतज्ञ इंसान कभी भी धैर्य बनाए नहीं रख सकता। क्योंकि उसका मैन हमेशा अशांत रहता है उन चीजों के लिए जो उसके जीवन में नहीं है। वह हमेशा अपने जीवन खालीपन ही महसूस करता है।

अकृतज्ञ इंसान हमेशा अपने जीवन से शिकायत, लोगों से शिकायत, वस्तुओं के लिए शिकायत और हर चीज में कमियां ढूंढते रहता है। यही कारण है कि वह कभी अपने जीवन में शांत नहीं रह सकता और जो लोग कृतज्ञ होते हैं वह ठीक इसके विपरीत होते हैं।

5. कृतज्ञता हमे कठिन परिस्थितियों से लड़ना सिखाता है

एक कृतज्ञ इंसान, उसके जीवन के हर हाल में अपने ईश्वर का धन्यवाद करता है। उनकी मर्जी समझ कर राजी रहते हैं। उसके जीवन में जो हो रहा है उससे वह शिकायत नहीं बलके धर्य बनाए रखता है। और यह कृतज्ञ भाव कठिन परिस्थितियों में भी डटे रहने की साहस जो गाता है। कृतज्ञता का अनुभव उन्हें उन कठिन परिस्थितियों से आसानी से बाहर निकाल कर ले आता है और वह अपने जीवन के मुश्किल से मुश्किल वक्त में भी हार स्वीकार नहीं करते हैं।

अकृतज्ञ इंसान कठिन परिस्थितियों मे, टूट जाते हैं अपनी हार स्वीकार कर लेते हैं। परिस्थितियों से लड़ने की क्षमता उनके भीतर नहीं रहती है वह जो कर सकते हैं वह सिर्फ यह हैं कि इस परिस्थिति के लिए लोगों को और ईश्वर को दोष आरोप करना।

यह थे कृतज्ञता प्रकट करने के 5 फायदे जो मैंने अपने जीवन में एक्सपीरियंस की है आर ऑन एक्सपीरियंस के बेस पर ही मैंने आप लोगों के साथ इसे साझा किया है हमें उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट बहुत अच्छा लगा होगा।

आपके लिए यह पोस्ट एक प्रतिशत भी फायदे का लगा होगा लगा हो तो आप इसे दूसरों के साथ भी जरूर शेयर करें क्योंकि अच्छी चीज है शेयर करना अच्छी चीजों को जीवन में और ज्यादा आकर्षित करते हैं।

तब तक के लिए अपना ध्यान रखें सुरक्षित रहें और कृतज्ञता को फैलाते रहे हम फिर लौटेंगे एक नई पोस्ट एक नई अभिज्ञता के साथ gratitude in hindi में। धन्यवाद।

Copy link
Powered by Social Snap