Home>>Gratitude>>कृतज्ञता का अभ्यास करने का 18 सबसे प्रभावी तरीका
Gratitudeकृतज्ञता

कृतज्ञता का अभ्यास करने का 18 सबसे प्रभावी तरीका

कृतज्ञता केवल उद्धरण या लंबे लेखन तक सीमित नहीं होनी चाहिए; व्यक्ति को अपने शब्दों और हाव-भाव में प्रतिदिन कृतज्ञता दिखाना चाहिए और कृतज्ञता का अभ्यास करना चाहिए। यह सबसे अच्छा उपहार है जिसे आप उन लोगों और जानवरों को दे सकते हैं जिनके साथ आप सद्भाव में रहते हैं।

यदि हम इसके बारे में सोचते हैं, तो हम पाएंगे कि हम कृतज्ञता की अभिव्यक्ति उतनी बार नहीं देते हैं जितनी हमें देनी चाहिए। कृतज्ञता का अभ्यास करने से हमें और दूसरों को मदद मिल सकती है। कृतज्ञता एक आंतरिक भावना से अधिक है। जब हमारे आस-पास अच्छी चीजें हो रही होती हैं, जब हम उन लोगों के साथ होते हैं जिन्हें हम प्यार करते हैं और हम आभारी होते हैं और हम इसे व्यक्त कर रहे होते हैं, तो प्यार और कोमलता की भावना बढ़ती है।

कृतज्ञता का महसूस करना और व्यक्त करना सीखना आपके और आपके आस-पास के लोगों के लिए खुशी और सफलता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है। जब हम किसी के किए गए उपकार पर उनका आभार व्यक्त करते हैं तो उन्हें आपके प्रति एक सकारात्मक विचार का सृजन करता हैं और वो दूसरी दफा भी आपके मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं। लेकिन अगर हम अगर किसी के श्रीस्थाचार का बरताव करते हैं और बदले में हमें अकृतज्ञ का अनुभव हो, तो हमे कैसा लगेगा?

ईसा मसीह ने कहा था, दूसरो के साथ वैसा ही पेश आओ, जैसा तुम खुद केे सााथ चाहते हो!

अपका बरताव ही अपका चरित्र का सबसे पहला परिचय हैं। आप के साथ लोग कैसा पेश आयेंगे यह लोगो पर नहीं आप पर निर्भर हैं। आप जैसा बरताव दोगे वही आपके पास वापस आना हैं। और सब के प्रति कृतज्ञता का बरताव रखना, सबसे उत्तम हैं।

18 तरीके कृतज्ञता का अभ्यास करने के लिए:

  • 1.एक आभार पत्रिका रखें और इसे नियमित रूप से लिखें अपनी जीवन के उन चीजों जिसके लिए आप खुदको भाग्यवान समझते हैं। और दिन के आखिरी में उन सूची पर नज़र डाले। आज के दिन आपके साथ क्या क्या अच्छी चीजें हुई।
  • 2.किसी को बताएं कि आप अपने जीवन में उनकी उपस्थिति की कितनी सराहना करते हैं। हम अकसर यह करने में लाज मेहसूस करते हैं। लेकिन जब वो लोग हमारे जीवन से दूर चले जाते तब हमे मेहसूस होता हा उनकी उपस्थिति हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण थी।
  • 3.अपने अच्छे रिश्तों का कद्र करें, जिससे आप प्यार करते हैं उसके साथ समय बिताएं। आज का युग में हैं, हम साथ रहकर भी एक दूसरे से कोशो दूर हो चुके हैं। एक ही छत के नीचे रहते हुए भी हम एक दूसरे के भावना से अज्ञात होते हैं। ऐसा नहीं होने दें, अपने रिश्ता को मजबूत बनाने के लिए कृतज्ञता सबसे अच्छी कुंजी हैं।
  • 4. चेहरे पर प्यारी मुस्कुराहट रखें और जितना हो सके चारों ओर खुशियां फैलाएं। क्या पता अपकी एक छोटी सी मुस्कान किसी का जीवन में आशीर्वाद वन जाए।
  • 5. प्रतिदिन कुछ ऐसा करे जो आपके आत्मा को शांति दें। हम पेट की शांति के लिए भोजन लेते हैं, देह की शांति के लिए नींद, लेकिन आत्मा की शांति हमे तब मिलती हैं जब हम किसी के काम आते है या फिर किसी से कोई आशीर्वाद लेते हैं। किसी भूखे को खाना खिलाना, बेजुबान जानवर को स्नेह देना, जरूरतमंद की मदद करना, या फिर किसी के काम आह जाना सच में अपकी आत्मा को शांति प्रदान करता है।
  • 6. ऐसी सामग्री से बचें जो आपकी आंतरिक शांति को भंग करे और जीवन में नकारात्मकता को आकर्षित करे।
  • 7. अपने आसपास के लोगों को साथ मधुर संपर्क रखें। उनकी कठिन समय में उनके साथ दें। जहां तक हो सके उनकी सहायता करेें। उनके सुख और दुुखमें बराबार केे भागीदार रहें। उनकेे अच्छे बरताव के प्रति आभारी रहें।
  • 8. फोन कॉल करें, अपने प्रियजनों को टेक्स्ट संदेश भेजें। आप कभी ना कभी यह देेेखा होगा, जब आप किसी करणबसत दुखी होते हैैं और अगर आप किसी अपनो से फोन कॉल पर बात कर लें, तो आपकी आधी तकलीफ़ ऐसे ही दुर हो जाती हैं। हमेशा उनसे जुड़े रहें, उनकी सराहना करे क्यूंकि हमारे जीवन में उनकी भी एक योगदान रहता हैं।
  • 9. लोगों की तारीफ करें जब वे आपके लिए कुछ अच्छा करें या अन्यथाकृतज्ञता का अभ्यास करने के लिए यह एक बहुत अच्छा तरीका हैं।
  • 10. लोगों से विनम्रता से बात करें। आपके शरीर की सबसेे महत्व्तपूर्ण चीज है आपकी जुबान। यह अगर सही तो बाकी शरीर केे अंग भी सही रहतेे है। और यह अगर बिगड़ जाए तो सब कुछ बिगड़ जाता हैं।
  • 11. जानबूझकर किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचाएं। एक कृतज्ञ इंसान कभी किसी के भावनाओं को ठेस नहीं पोहुचाता हैै जानबूझकर।
  • 12. एक दयालु व्यक्ति बनें।
  • 13. आपके पास जो कुछ है उसके लिए हर दिन आभारी रहें।
  • 14. हर बार जीवन के सकारात्मक पक्ष को देखने की कोशिश करें।
  • 15. अतीत और भविष्य की चिंता न करके वर्तमान क्षण में जीएं।
  • 17. उन छोटी-छोटी चीजों के लिए आभारी रहें जो जीवन ने आपको दी हैं
  • 18. बढ़ने के अवसरों को स्वीकार करे

शोधकर्ताओं ने पाया कृतज्ञता के फायदे:

रिसर्च का मानना हैं एक कृतज्ञ महसूस करने वाला ब्यक्ति कोई अन्ने लोगों के तुलना में अधिक खुश, सकारात्मक,और जीवन को आनंद से उपभोग कर पता है।

• खुश रहने वाले लोग कृतज्ञ भी होते हैं। कृतज्ञता व्यक्त करने से उन सकारात्मक भावनाओं में वृद्धि होती है जो हम किसी की दया प्राप्त करने से महसूस करते हैं।

• सकारात्मक अनुभवों के बारे में सोचना मनोवैज्ञानिक रूप से फायदेमंद होता है।

• अपने जीवन में अच्छी चीजों को नोटिस करना और उनका आनंद लेना अधिक संतुष्टिदायक अनुभवों की ओर ले जाता है।

फ्रोह, जे.जे., सेफिक, डब्ल्यू.जे., और एम्मन्स, आर.ए. (2008)। प्रारंभिक किशोरावस्था में आशीर्वादों की गिनती: कृतज्ञता और व्यक्तिपरक कल्याण का एक प्रयोगात्मक अध्ययन। जर्नल ऑफ स्कूल साइकोलॉजी, 46, 213-233

चलिए सब मिलकर कृतज्ञता के अभियान को आम करें और हर घर हर शहर हर गांव हर कस्बा हर मोहल्ला हर एक एक इंसान को कृतज्ञता के भाव से जोड़ने की पहल करें। मैंने पहल कर दी हैं अब आपकी बारी हैं, क्या आप ईश अभियान में मेरे साथी बनेंगे? मुझे आपका इंतजार रहेगी

Copy link
Powered by Social Snap